असंवैधानिक है सीएए के विरुद्ध विधानसभा में पारित हुआ प्रस्ताव – आरिफ ख़ान

Source : parstoday

भारत के केरल राज्य के राज्‍यपाल ने कहा है कि केरल विधानसभा में पारित हुआ क़ानून असंवैधानिक है।

गुरूवार को आरिफ मोहम्‍मद ख़ान ने कहा कि केरल विधानसभा में पारित इस प्रस्‍ताव की कोई कानूनी वैधता नहीं है और न ही यह कानून संवैधानिक है।  हिंदुस्तान के अनुसार केरल के गवर्नर का कहना था कि नागरिकता संशोधन क़ानून, केंद्र सरकार का विषय है और इससे राज्‍य का कोई लेनादेना नहीं है।  इससे पहले भारत के केंद्रीय विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद कह चुके हैं कि राज्‍यों को नागरिकता क़ानून लागू करना ही होगा। केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन ने कहा कि राज्‍य विधानसभाओं के अपने विशेषाधिकार हैं।

केरल सरकार ने 31 दिसंबर 2019 को नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ राज्‍य विधानसभा में प्रस्ताव पेश किया था।  यह प्रस्‍ताव केरल के मुख्‍यमंत्री पिनराई विजयन और कांग्रेस नेता व सदन में नेता विपक्ष रमेश चेन्निथला के द्वारा पेश किया गया था जो पारित भी हो गया था।  केरल के मुख्‍यमंत्री पिनराई विजयन कहा है कि धर्म निरपेक्षता का इतिहास केरल में बहुत पुराना है।  उन्होंने कहा कि ईसाई और मुसलमान शुरूआत में ही केरल पहुंचे थे।  विजयन ने कहा कि हमारी परंपरा समावेशी है।  केरल के मुख्‍यमंत्री पिनराई विजयन ने यह भी कहा कि राज्य में कोई भी डिटेंशन सेंटर नहीं बनेगा।

Arman

Read Previous

ईरान ने लहराया अमरीकी दूतावास पर हिज़्बुल्लाह का झंडा

Read Next

दिल्ली से असम तक CAA और NRC के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन जारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *